मेरे विचार आपके सामने

नया सफर नई दिशा

32 Posts

833 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9515 postid : 51

कहो कौन सा रंग लगे तुम्हें इस होली में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहो कौन सा रंग लगे तुम्हें इस होली में

कहो कौन सा लगे इस होली में

खुशियों की बरसात तो
हो ही तुम्हारी झोली मैं
एक रंग अमन और चैन
का भी मिल जाये तो…..

कहो कौन सा रंग लगे
तुम्हें इस होली मैं
स्वस्थ की बरसात तो
हो ही तुम्हारी झोली में
एक रंग सौहार्द का
भी मिल जाए तो…..

कहो कौन सा रंग लगे
तुम्हें इस होली में
आयु लंबी तो हो ही
तुम्हारी झोली में
एक रंग सफलता का
भी मिल जाए
तो……..

कहो कौन सा रंग लगे
तुम्हें इस होली में
दुआओं की बरसात
तो हो ही तुम्हारी झोली में
हर बगिया के गुलों के रंग
तुम्हारे आँगन में खिल जाये तो….

सारे रंग बिना पूछे ही
लगाना चाहती हूँ आपको

बुरा न मान जाना
तुम इस होली में …..पूनम राणा ‘मनु ‘


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

37 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

chandanrai के द्वारा
March 12, 2012

मनु जी नमस्कार ! एक रंग सौहार्द का भी मिल जाए तो….. कहो कौन सा रंग लगे तुम्हें इस होली में उत्कृष्ट उम्दा प्रस्तुति Read my poem http://chandanrai.jagranjunction.com/Berojgar

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 13, 2012

    नमस्कार चन्दन जी ! आपके उत्साह वर्धन के लिए शुक्रिया

बनारसी बाबू के द्वारा
March 10, 2012

महोदया, जीवन में बिखरे अनेक रंगों के बीच से आपने इतने चुन-चुन कर रंग छांटे हैं होली के लिए कि क्या कहने| बहुत ही उम्दा प्रस्तुति| साभार,

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 12, 2012

    धन्यवाद बनारसी बाबू जी ………….

March 9, 2012

मनु जी नमस्कार ! किसी के लिए इतनी दुवाएँ …क्या बात है ! सुंदर प्रेमरस मे सरोबार कविता। बहुत अच्छी लगी। आपको बहुत बहुत बधाई !!!

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 12, 2012

    नमस्कार डॉक्टर साहब !… और बहुत-बहुत धन्यवाद भी

Aakash Tiwaari के द्वारा
March 9, 2012

पूनम जी, बहुत सुन्दर रचना..बहुत ही उत्कृष्ट. आकाश तिवारी

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 12, 2012

    आकाश जी , नमस्कार ! कहाँ थे आप ? प्रतिकृया के लिए धन्यवाद

sonam के द्वारा
March 9, 2012

अच्छी रचना बधाई पूनम जी। Be Lated Happy Holi to u.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    धन्यवाद सोनम जी ……..

jlsingh के द्वारा
March 8, 2012

पूनम जी, सादर अभिवादन! अच्छे भाव से पूर्ण रचना, शशि जी का सुझाव अवश्य मानें और बेहतर बनाने की कोशिश करें! जागरण नगर की उद्दंग में शामिल होकर सौहार्द्र को बढ़ावा दीजिये! आभार और होली की ढेर सारी बधाई!

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    नमस्कार जेएल सिंह जी जी बिलकुल सुझाव मानूँगी … पर एक सदभावना संदेश मेरे सब बंधु गण,आदरणीय व पूजनीय मेरे गुरु जी श्री निर्मल गुप्त जी व उन सब आदरणीय साथियों के लिए था जिन्हे मैं होली की शुभकामनाएँ देना चाहती थी । उसकी मूल भावना आपने देखी उसके लिए मैं तहे दिल से आपकी आभारी हूँ … धन्यवाद

dineshaastik के द्वारा
March 8, 2012

पूनम जी नमस्कार, भावों के रंगों से रची रचना के लिये बधाई। होली की शुभकामनायें…

    RAJEEV KUMAR JHA के द्वारा
    March 8, 2012

    होली के रंगों से सजी,सुन्दर कविता. बधाई !! पूनम जी. होली की शुभकामनाएं.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    सादर नमस्कार दिनेश जी !आशा है आपकी होली भी अच्छी रही होगी …धन्यवाद

shashibhushan1959 के द्वारा
March 8, 2012

आदरणीय पूनम जी, सादर ! इस रचना के भाव इतने अच्छे होते हुए भी आपने इसके साथ न्याय नहीं किया ! आपकी पहली पंक्ति ही मेरी समझ में नहीं आ रही है ! कुछ तो व्याकरणीय शुद्धता का ख़याल रखा करें ! एक बहुत उत्साही रचनाकार ने काव्य लिखा- “मेढ़क……….पानी………छप्प !” पूछा गया ये क्या है भैया ! जवाब था कि मेढ़क किनारे पर बैठा था, अचानक उसे सांप दिखा और वह छप्प से पानी में कूद गया ! गज़ब ! क्षमाप्रार्थना सहित होली कि शुभकामनाएं !

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    आदरणीय शशीभूषण जी, सादर नमस्कार ! बस आप लोगो तक एक सदभावना संदेश के जरिये भाव ही पहुँचाना चाहती थी वो आप तक पहुँच गए । रही व्याकरण शुद्धता की बात तो मैं उसका आगे से खयाल रखूँगी कई बार नेट आपको मज़बूर कर देता है कई बार बिजली के कुछ छूट रहा है तो जाने दो , पर आगे से सचमुच ख़्याल रखूँगी । धन्यवाद

jalaluddinkhan के द्वारा
March 8, 2012

एक बेहद ही सुन्दर रचना.बधाई के साथ होली की शुभकामनायें भी स्वीकारें.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    धन्यवाद! ख़ान साहब…

vinitashukla के द्वारा
March 8, 2012

आपकी इस रचना ने होली के उल्लास के साथ सद्भावना के रंग भी बिखेर दिए. बधाई आपको.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    धन्यवाद, आदरणीय विनीता जी !

jagobhaijago के द्वारा
March 8, 2012

मनुजी, आपकी रचना का हर रंग (भाव)  इतना अच्छा है कि श्रेष्ठ का चयन मुश्किल है और इसीलिए हर रंग के साथ आपको होली बहुत बहुत मंगलमय हो….

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    आपने भाव देखे सचमुच आभारी हूँ , धन्यवाद रतन जी

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
March 8, 2012

same to you, bahut sundar bhav. shubh holi.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    नमस्कार सर जी आशा है आपकी होली भी अच्छी रही होगी … धन्यवाद

vikramjitsingh के द्वारा
March 8, 2012

पूनम जी, सादर, होली पर्व पर सार्थक रचना….. आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    धन्यवाद !विक्रम जीत जी

akraktale के द्वारा
March 8, 2012

पूनम जी नमस्कार, सुन्दर, सौहाद्रपूर्ण और स्वास्थकर रचना. बधाई.होली की हार्दिक शुभकामनाएं. कहो कौन सा रंग लगे तुम्हें इस होली में नीला पीला हरा गुलाबी,रंग और अबीर गुलाल, राष्ट्रभक्ति के रंग अनोखे, टेढ़े राजनीति की चाल, खुशहाली के रंग खिले,स्वास्थ का जो रखो ख़याल, सौहाद्र के रंग रखो तुम, सदा रंगों की झोली में, कहो कौन सा रंग लगे तुम्हें इस होली में

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    आदरणीय अशोक जी ! नमस्कार बहुत सुंदर पंक्तियाँ… मेरा सदभावना संदेश आपको पसंद आया धन्यवाद

ajaydubeydeoria के द्वारा
March 8, 2012

आप को भी होली हार्दिक शुभकामनाएं.

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 9, 2012

    अजय जी, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

मनु (tosi) के द्वारा
March 8, 2012

आनंद जी बुरा न मानना मुझे ये होली के उपलक्ष्य में पोस्ट करनी थी सो जल्दी-जल्दी मेरी दो पोस्ट हो गयी ॥पर आगे सभी दोस्तों से ये वादा है की मेरी रचना में कम-स कम 6 दिन का अंतराल तो होगा ही

    ANAND PRAVIN के द्वारा
    March 8, 2012

    ‘ये होली है बड़ी निराली, आपने भी खूब बजाई ताली, स्वस्थ कामना ही जीवन में, लाती है खुशियों की पाली, विचारों को हमने भी देखा, सूना सभी ने खूब सराहा, किन्तु मर्यादित रचना को, तुने गुण से और निखारा” होली में तो सब की गलती माफ़ है……………बुराना माने होली है

    March 8, 2012

    सुन्दर भाव, सुन्दर अभिव्यक्ति….यदि आप ‘स्वस्थ’ को ‘स्वास्थय’ कर ले तो रचना बेहतर हो जाएगी….या फिर कोई दूसरा शब्द सूझता हो तो उसे कर लीजिये, दोनों शब्दों से बेहतर होगा…..

मनु (tosi) के द्वारा
March 9, 2012

धन्यवाद राजीव जी ….

मनु (tosi) के द्वारा
March 9, 2012

धन्यवाद अनिल जी

मनु (tosi) के द्वारा
March 9, 2012

आनंद जी बिलकुल बुरा नहीं माना इस होली में … खूबसूरत पंक्तियाँ धन्यवाद


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran